Mein Jo Hoon, 'Jon Elia' Hoon

: Jon (Jaun) Elia
: Paperback
: 9789350728833
: 9350728834
: 21 Jul, 2017
: Vani Prakashan
: Vani Prakashan
Add book to BookBag

Share this Book!

Price Result
Store Name Availability Price Shipping Total COD Go to Store
24 hours 165 0 165
Book Summary
मैं जो हूँ जॉन एलिया हूँ जनाब मेरा बेहद लिहा ज़ कीजिएगा। कहना ये जो जॉन एलिया के कहने की खुद्दारी है कि मैं एक अलग फ्रेम का कवि हूँ, यह परम्परागत शायरी में बहुत कम ही देखने को मिलती है। जैसे - साल हा साल और इक लम्हा, कोई भी तो न इनमें बल आया ख़ुद ही इक दर पे मैंने दस्तक दी, ख़ुद ही लड़का सा मैं निकल आया जॉन से पहले कहन का ये तरीका नहीं देखा गया था। जॉन एक खूबसूरत जंगल हैं, जिसमें झरबेरियाँ हैं, काँटे हैं, उगती हुई बेतरतीब झाड़ियाँ हैं, खिलते हुए बनफूल हैं, बड़े-बड़े देवदारु हैं, शीशम हैं, चारों तर फ़ कूदते हुए हिरन हैं, कहीं शेर भी हैं, मगरमच्छ भी हैं। उनकी तुलना में आप यह कह सकते हैं कि बा क़ी सब शायर एक उपवन हैं, जिनमें सलीके से बनी हुई और करीने से सजी हुई क्यारियाँ हैं इसलिए जॉन की शायरी में प्रवेश करना ख़तरनाक भी है। लेकिन अगर आप थोड़े से एडवेंचरस हैं और आप फ्रेम से बाहर आ कर सब कुछ करना चाहते हैं तो जॉन की दुनिया आपके लिए है।
Goodreads Reviews
Click to Read Reviews
You may also like below books
  • Naraz
    by Rahat Indori
    Expand
  • Lekin (Hindi) PB
    by Jaun Eliya
    Expand
  • Gumaan
    by Jaun Eliya
    Expand
  • Tarkash
    by Javed Akhtar
    Expand
  • Duniya Jise Kahte Hain
    by Nida Fazli
    Expand
  • Der Kar Deta Hoon Main
    by Muneer Niyazi
    Expand
  • Khwab Ke Gaon Mein
    by Javed Akhtar
    Expand
  • Chand Pagal Hai
    by Rahat Indauri
    Expand
  • Ghazal Usne Chhedi (Amir Khusrau se ...
    by Farhat Ehsas
    Expand
  • Ghazal Usne Chhedi 3 (3rd, 2017)
    by Farhat Ehsas
    Expand